Poem on Time in Hindi | समय के महत्व पर सुंदर कविता

Poem on Time in Hindi | समय पर कविता 


Poem on Time in Hindi
Time-Poem
Poem on Time in Hindi

समय बड़ा अनमोल है
समझो इसका मोल |
व्यर्थ गवांया किस तरह
देखो ह्रदय टटोल |
दो घंटे दिन में यदि,
सोते हो हर रोज |
व्यर्थ किये दस साल में,
दिन कितने ये खोज ?
गुणा भाग जब किया तो,
निकला यह परिणाम,
कियो तीन सौ दिवस यूँ
व्यर्थ किये बेकाम ||   
पंडित दयाल श्रीवास्तव 
ये कविताएँ भी पढ़ सकते है :-

आपको ये Hindi Poem कैसी लगी, कमेंट करके जरूर बताइयेगा | If you like "Poem on Time in Hindi ", तो please इन poems को share करिये |  

No comments:

Post a Comment